"MedicalWebPage", "FAQPage"

Get,

Free Doctor Tips

to manage your symptom

Get your,

FREE Doctor Tips Now!!

4 Cr+ families

benefitted

Enter your Phone Number

+91

|

Enter a valid mobile number

Send OTP

Verify your mobile number

OTP sent to 9988776655

CONGRATULATIONS!!!

You’ve successfully subscribed to receive

doctor-approved tips on Whatsapp


Get ready to feel your best.

Hi There,

Download the PharmEasy App now!!

AND AVAIL

AD FREE reading experience
Get 25% OFF on medicines
Banner Image

Register to Avail the Offer

Send OTP

By continuing, you agree with our Privacy Policy and Terms and Conditions

Success Banner Image

Verify your mobile number

OTP sent to 9988776655

Comments

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Leave your comment here

Your email address will not be published. Required fields are marked *

25% OFF on medicines

Collect your coupon before the offer ends!!!

COLLECT

खजूर (Dates in Hindi) के 15 लाजवाब फ़ायदे जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए!

By Dr. Nikita Toshi +2 more

डेट्स जिसे हिंदी में खजूर कहते हैं, एक प्राकृतिक स्वीटनर (मीठा बनाने वाला) है। ऐसा माना जाता है कि इनकी उत्पत्ति ईरान में हुई थी लेकिन मिस्र के लोग बहुत पहले से ही इनसे शराब बनाते थे।


खजूर (डेट) एक उष्णकटिबंधीय (ट्रॉपिकल) फल है जिसे छोटे-छोटे समूहों (क्लस्टर) में खजूर (डेट) के पेड़ पर उगाया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम फीनिक्स डेक्टाइलिफेरा है और यह सबसे ज़्यादा स्वादिष्ट और पौष्टिक फल है। इसका छिलका गहरे भूरे रंग का होता है, इसका गूदा बेहद मुलायम होता है और इसकी मिठास बिल्कुल अलग होती है।

जब भी आपका कुछ मीठा खाने का मन हो तो, कोई मिठाई (कैंडी) या चीनी खाने के बजाय, खजूर (डेट) खाएं। ये बिल्कुल उतने ही मीठे होते हैं और आपकी सेहत के लिए अच्छे भी। मधुमेह के मरीजों को खजूर नियंत्रित मात्रा में ही खानी चाहिए क्योंकि भले ही यह सेहतमंद है पर इससे ब्लड शुगर भी बढ़ सकता है।

खजूर (डेट) का पौष्टिक मूल्य (न्यूट्रिशनल वैल्यू) 

खजूर (डेट) पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, खासतौर पर सूखे खजूर (ड्राई डेट)। सूखे खजूर (ड्राई डेट) में कैलोरी बहुत ज़्यादा मात्रा में होती है खासकर कार्बोहाइड्रेट (74 ग्राम)। इसमें फाइबर के साथ-साथ कई अन्य ज़रूरी विटामिन और मिनरल भी होते हैं। खजूर (डेट) अपने एंटीऑक्सिडेंट गुणों की वजह से बहुत ज़्यादा प्रसिद्ध है जो आपके दिल और फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फ़ायदेमंद हैं, इस वजह से खजूर (डेट) दिल के स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है।

खजूर (डेट) का पोषण संबंधी चार्ट

  मात्रारोज़ाना के लिए ज़रूरी खुराक का प्रतिशत
ऊर्जा (एनर्जी)314 किलोकैलोरी  
कुल वसा (फैट)0.4 ग्राम 0 %
कुल कार्बोहाइड्रेट75 g75 ग्राम25 %
फाइबर8 ग्राम32 %
शुगर63 ग्राम
प्रोटीन2.5 ग्राम5 %
कोलेस्ट्रॉल0 मिलीग्राम0 %
विटामिन D  0 %
विटामिन C  0 %
विटामिन B6  10 %
कैल्शियम  3 %
आयरन  5 %
मैग्नीशियम   10 %
सोडियम 2 मिलीग्राम0 %
पोटैशियम 656 मिलीग्राम18 %

खजूर (डेट) के निम्नलिखित लाभ हैं:

खजूर (डेट) में कई पोषक तत्व होते हैं जिनसे आपके शारीरिक स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते हैं जैसे कि कोलेस्ट्रॉल कम करना या हड्डियों को मजबूत बनाना।

  • कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है  

आपके आहार में खजूर (डेट) ज़रूर होना चाहिए क्योंकि यह कोलेस्ट्रॉल रेगुलेट करने के लिए फायदेमंद हो सकता है

Read in English: Cholesterol Diet: Foods to Eat & Avoid for High Cholesterol

  • रोगों से लड़ने वाले एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर  

खजूर (डेट) में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जिनसे कई तरह की रोगों के इलाज में मदद मिलती है। एंटीऑक्सिडेंट आपकी कोशिकाओं (सेल्स) को ऐसे मुक्त कणों (फ्री रैडिकल्स) से बचाते हैं जो आपके शरीर में हानिकारक प्रतिक्रियाएं (हार्मफुल रिएक्शन) पैदा कर सकते हैं और बीमारी की वजह बन सकते हैं। खजूर (डेट) में निम्नलिखित एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं:

  1. कैरोटेनॉयड्स – यह आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। यह आंखों से जुड़ी बीमारियों के खतरे को भी कम करते हैं।
  2. फ्लेवोनोइड्स – यह एक प्रभावशाली एंटीऑक्सीडेंट है जिसके कई फ़ायदे हैं। यह अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है। अध्ययन बताते हैं कि यह मधुमेह (डाइबीटीज़), अल्जाइमर रोग और कुछ तरह के कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए बेहद उपयोगी है।
  3. फेनोलिक एसिड – इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और यह कुछ तरह के कैंसर और दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करता है।
  • हड्डियों को मजबूत बनाता है

खजूर (डेट) में कॉपर, सेलेनियम और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होते हैं जो आपकी हड्डियों को मजबूत रखने और उनसे जुड़े रोगों से बचाने के लिए बेहद ज़रूरी हैं। इसमें विटामिन K भी भरपूर मात्रा में होता है जो खून को गाढ़ा होने से रोकता है और आपकी हड्डियों को मेटाबोलाइज करने में मदद करता है।

ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित लोगों में, हड्डी के टूटने (फ्रैक्चर होने) की संभावना ज़्यादा होती है। खजूर (डेट) आपकी हड्डी को मजबूत और ताकतवर बना सकता है। 

Read in English: 5 Foods That Are Great for Brain Health

  • दिमागी स्वास्थ्य को बढ़ाता है  

प्रत्येक खजूर (डेट) में कोलीन और विटामिन बी होता है जो सीखने और याददाश्त बढ़ाने के लिए लाभदायक होते हैं, खासतौर पर अल्जाइमर रोग से पीड़ित बच्चों के लिए। खजूर (डेट) को नियमित रूप से खाने से न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग जैसे कि अल्जाइमर का जोखिम कम होता है और वृद्ध व्यक्तियों का संज्ञानात्मक प्रदर्शन (कॉग्निटिव परफॉरमेंस) सुधरता है।

खजूर (डेट) सूजन को कम करने और मस्तिष्क में प्लाक बनने से रोकने में भी मदद करता है, जो अल्जाइमर रोग से बचने के लिए बेहद ज़रूरी है।

Read in English: 5 Foods That Are Great for Brain Health

  • पाचन स्वास्थ्य (डाइजेस्टिव हेल्थ) में सुधार करता है

खजूर (डेट) में प्राकृतिक फाइबर प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है। 100 ग्राम खजूर (डेट) में लगभग 8 ग्राम फाइबर होता है। इस प्राकृतिक फाइबर से मल त्याग (बाउल मूवमेंट) को नियमित करने और आपके संपूर्ण पाचन स्वास्थ्य (ओवरऑल डाइजेस्टिव हेल्थ) को सुधारने में मदद मिलती है। सामान्य और स्वस्थ पाचन, आपके शरीर की अन्य प्रणालियों को सुधारने में मदद करता है जैसे कि पोषक तत्वों का बेहतर अवशोषण (अब्ज़ॉर्प्शन), लिवर और गुर्दों (किडनी) का स्वस्थ बनना और यह आपको मानसिक तौर पर तनावमुक्त (रिलैक्स) भी रखता है। साथ ही, खजूर (डेट) को नियमित रूप से खाने से आपको कब्ज (कॉन्स्टिपेशन) और उससे होने वाली समस्याओं से राहत मिलती है।

  • शरीर को डिटॉक्सिफाई करने में मदद करता है

खजूर (डेट) और खजूर का अर्क (डेट एक्सट्रेक्ट) लीवर के स्वास्थ्य को सही रखने में मदद करता है और साथ ही लीवर फाइब्रोसिस को भी रोकता है। लिवर को स्वस्थ बनाकर, खजूर (डेट) आपके शरीर को प्राकृतिक तरीके से डिटॉक्स करता है, क्योंकि लिवर आपके शरीर से अपशिष्ट (वेस्ट) और हानिकारक पदार्थों को बाहर रखने का काम करता है। खजूर का अर्क (डेट एक्सट्रेक्ट) का नियमित रूप से इस्तेमाल, लीवर फाइब्रोसिस को कम कर देता है, इस वजह से लीवर सिरोसिस होने का खतरा भी कम हो जाता है।

  • मधुमेह के खतरे को कम करने के लिए

मधुमेह (डायबिटीज़ मेलेटस) सबसे आम बीमारियों में से एक है। ज़्यादातर, मधुमेह का इलाज मधुमेह की कई मौखिक दवाओं (ओरल डायबिटीक मेडिसिन)और इंसुलिन सप्लिमेंटशन से किया जाता है। शोध से पता चलता है कि खजूर (डेट) से मधुमेह होने के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। खजूर खाने से ब्लड शुगर भी बढ़ता है इसलिए इसका सेवन नियंत्रित रूप से ही करना चाहिए। मधुमेह के मरीजों को डॉक्टर की सलाह से ही अपनी खानपान में बदलाव करने चाहिए।

Read in English: 5 Tips to Control Diabetes Naturally

  • आपके मीठा खाने की लालसा को शांत करता है  

खजूर (डेट) सबसे मीठा फल होता है जिसमें प्राकृतिक रूप से शुगर मिली होती है। यह अस्वास्थ्यकर मीठी चीज़ों और चीनी खाने की आपकी लालसा को कम कर सकता है। अपनी मिठास की वजह से यह सफेद चीनी का एक बेहतरीन विकल्प है। तो अगली बार जब भी आपका कुछ मीठा खाने का मन करे तो आप खजूर (डेट) के बारे में सोच सकते हैं। यह बाजार से खरीदी हुई मिठाइयों की तुलना में एक सेहतमंद विकल्प है। मगर इसका सेवन भी अपनी सेहत के अनुसार और ब्लड शुगर को ध्यान में रखते हुए नियंत्रित मात्रा में ही करें।

  • त्वचा को सुंदर बनाए  

खजूर (डेट) विटामिन सी और डी का एक बेहतरीन स्रोत है जिनसे आपकी त्वचा कोमल और मुलायम बनती है। खजूर में एंटी-एजिंग गुण भी होते हैं और यह मेलेनिन को इकठ्ठा होने से रोकता है।

  • वज़न घटाने में मदद करे 

व्यायाम करने से पहले रोज़ सुबह खाली पेट खजूर (डेट) खाने से आप अपने अंदर ताकत महसूस करेंगे, जिससे आप सेहतमंद तरीके से अपना वज़न कम कर पाएंगे। इसकी वजह है खजूर (डेट) में ज़्यादा मात्रा में फाइबर का होना, जो बड़ी आंत (लार्ज इंटेस्टाइन) में अवशोषण को धीमा कर देता है। इससे आपको ज़्यादा समय तक अपना पेट भरा हुआ महसूस होगा और खाना खाने की ज़रूरत भी कम महसूस होगी, जिससे आपके शरीर में ज़्यादा कैलोरी नहीं जमेगी। आप जितना ज़्यादा कैलोरी खाएंगे उतना ही आपको उसे जलाने (बर्न करने) की ज़रूरत होगी। इसी तरह, आप अपने मुख्य भोजन के बीच एक स्वस्थ लेकिन संतोषजनक नाश्ते के रूप में 6-7 खजूर (डेट) भी खा सकते हैं। खजूर (डेट) से शॉर्ट-चेन फैटी एसिड का बनना कम होता है जिससे मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है। 

  • नींद ना आने की समस्या को दूर करता है 

खजूर (डेट) के अन्य स्वास्थ्य लाभों में नींद ना आने की समस्या को दूर करना शामिल है। अगर आपको कई महीनों से ठीक से नींद नहीं आ रही है और आप नींद की गोली लेने के बारे में सोच रहे हैं, तो ज़रा ठहरें और अपनी समस्या को प्राकृतिक तरीके से बस कुछ चीज़ों के साथ आसान घरेलू उपचार करके दूर करने की कोशिश करें। खजूर (डेट), मखाने और दूध को मिलाकर एक शरबत (ड्रिंक) बनाएं और सोने से पहले इसे पी लें। कुछ हफ़्तों तक ऐसा करते रहें और फर्क देखें!

Read in English: 20 Foods That Are Good For Skin

  • दिल के स्वास्थ्य में सुधार करे  

रोज़ाना मुट्ठी भर खजूर (डेट) खाने से आपके दिल के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है। खजूर (डेट) में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो एथेरोस्क्लेरोसिस को बनने और दिल से जुड़ी बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं।

खजूर (डेट) के कुछ अन्य लाभ भी हैं, खासकर पुरुषों और महिलाओं के लिए। इनके बारे में नीचे दिया गया है –

  • पुरुषों के लिए खजूर (डेट) के लाभ  

पुरुषों के यौन स्वास्थ्य को सुधारे – खजूर (डेट) को सदियों से एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। यह पुरुषों के यौन स्वास्थ्य को भी सुधारता है।

Read in English: 17 Foods That Are High in Dietary Fiber

  • महिलाओं के लिए खजूर (डेट) के लाभ  

आयरन की कमी को दूर करे – अध्ययन बताते हैं कि महिलाओं के शरीर में स्वाभाविक तौर पर ही हीमोग्लोबिन की कमी पाई जाती है। अगर आपमें आयरन की कमी है तो आपको अपने रोज़ाना के आहार में खजूर (डेट) को शामिल करना चाहिए। उचित पोषण के लिए, रोज़ाना 100 ग्राम खजूर (डेट) को चार बार में खाएं।

प्राकृतिक प्रसव में मदद करे – गर्भावस्था के बाद के चरणों में खजूर (डेट) खाने से आपको आसानी होगी। यह गर्भाशय ग्रीवा के फैलाव को बढ़ाता है और प्रसव के दौरान ज़ोर लगाने की आवश्यकता को कम करता है। खजूर (डेट) सफलतापूर्वक ऑक्सीटोसिन की क्रिया की नकल करते हैं और प्रसव के दौरान गर्भाशय की मांसपेशियों में प्राकृतिक संकुचन (कॉन्ट्रेक्शन) लाते हैं।

खजूर (डेट) में टैनिन नाम का तत्व भी होता है जिससे प्रसव के दौरान गर्भाशय के संकुचन में मदद मिलती है। 

गर्भाशय के दौरान बवासीर के खतरे को कम किया जा सकता है – गर्भावस्था के दौरान बवासीर होना एक आम बात है। इसकी वजह है फाइबर का कम मात्रा में सेवन करना। खजूर (डेट) फाइबर से भरपूर होते हैं। जिनसे गर्भावस्था के दौरान बवासीर होने के खतरे को कम किया जा सकता है। 

  • रजोनिवृत्ति (पोस्ट-मेनोपौज़ल) के बाद हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ाना

शोध बताते हैं कि रजोनिवृत्ति (पोस्ट-मेनोपौज़ल) से गुजरने वाली महिलाओं की हड्डियों में आने वाली कमज़ोरी को पोटैशियम के सेवन से कम किया जा सकता है। एक सूखे खजूर (ड्राई डेट) में काफ़ी मात्रा में पोटैशियम और अन्य पोषक तत्व होते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि ज़्यादा मात्रा में पोटैशियम लेने से किडनी के ज़रिये निकलने वाले कैल्शियम की मात्रा को कम किया जा सकता है और हड्डियों के द्रव्यमान (मास) को बचाया जा सकता है। 

Read in English:  15 Protein-Rich Foods for a Healthy Life

खजूर (डेट) के प्रकार:  

नीचे अलग-अलग तरह के खजूरों (डेट) और उनकी विशेषताओं के बारे में बताया गया है: 

खजूर (डेट) के प्रकारइनके बारे में
मेड्युल खजूर (मेडजूल डेट)आकार में बड़े, रेशेदार गूदा, लाल भूरा, मीठा। इनका उत्पादन मोरक्को, फिलिस्तीन, जॉर्डन में होता है
ओमानी खजूर (डेट)ये आम तौर पर बड़े, गहरे भूरे, रसेदार और स्वाद में मीठे होते हैं। इनका उत्पादन ओमान में होता है
पाइरोम खजूर (डेट)इनका आकार अंडाकार, पतला और लंबा होता है, ये गहरे भूरे या काले रंग के होते हैं, ये आधे सूखे होते हैं, इनमें कारमेल / टॉफी के हल्के स्वाद के साथ अलग सा मीठा स्वाद होता है। इनका उत्पादन खाड़ी क्षेत्र और मध्य पूर्व (गल्फ रीजन और मिडल ईस्ट) में होता है
डेगलेट नूर खजूर (डेट)ये मध्यम आकार के, लंबे और पतले होते हैं, इनका रंग गहरा और सुनहरा भूरा होता है, ये नरम गूदे वाला फल है। इनका उत्पादन अल्जीरिया में होता है
मजाफती खजूर (डेट)ये सामान्य आकार के खजूर (डेट) हैं, इनका छिलका मुलायम और गहरे भूरे रंग का होता है, चॉकलेट और ब्राउन शुगर के हल्के स्वाद के साथ इनका स्वाद हल्का होता है। इनका उत्पादन ईरान में होता है
बरही खजूर (डेट)इनका आकार छोटा अंडाकार होता है, इनका रंग पीले रंग जैसा होता है, क्रीमी टेक्स्चर और बटरस्कॉच, कैरमल और सिरप के स्वाद के साथ यह सबसे मीठा खजूर (डेट) है। इसका उत्पादन इराक में होता है

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1- क्या गुड़ (जैगरी) खजूर (डेट) से बनाया जाता है?

उत्तर– हाँ, खजूर (डेट) के पेड़ से बना गुड़ (जैगरी) भी एक तरह की जैगरी या गुड़ (भारत में इसे खजूर के  गुड़ नाम से जाना जाता है) होता है जिसे जंगली खजूर के पेड़ (डेट पाम ट्री) के रस को भाप बनाकर बनाया जाता है। इसे प्राकृतिक मीठे (स्वीटनर) की तरह इस्तेमाल किया जाता है और यह पूरे भारत में दानेदार (चूरे के रूप में), तरल या ठोस रूप में पाया जाता है। इस तरह के गुड़ की कटाई नवंबर से फरवरी के बीच पूरे बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल में की जाती है।

प्रश्न 2- प्राकृतिक मीठे (नेचुरल स्वीटनर) के तौर पर खजूर (डेट) से कौन-कौन से व्यंजन बनाए जा सकते हैं?

उत्तर– चाहे आपको खजूर (डेट) को अपने मूल रूप (ओरिजिनल फॉर्म) में खाना पसंद हो या नहीं, फिर भी ये बेहद स्वास्थ्यवर्धक होते हैं और इन्हें कई सारे व्यंजनों में मिलाया जा सकता है जिससे उनकी पौष्टिकता बढ़ सके। इनके बारे में नीचे दिया गया है: 
खजूर (डेट) का हलवा: मूंग दाल के हलवे के मुकाबले ज़्यादा सेहतमंद है
खजूर (डेट) एनर्जी बार
भरवां खजूर (डेट)
खजूर (डेट) फिरनी
खजूर (डेट) की खीर
खजूर (डेट) स्क्वायर
क्रीम के साथ स्टिकी खजूर (डेट) पुडिंग
खजूर (डेट) अखरोट (वॉलनट) का केक

प्रश्न 3- क्या ज़्यादा खजूर (डेट) खाने के कोई प्रतिकूल प्रभाव (साइड इफ़ेक्ट) भी होते हैं? 

उत्तर– हाँ, अगर आप एक ही बार में ज़्यादा खजूर (डेट) खा लें तो, आपको त्वचा पर दाने (स्किन रैशेस), सूजन, किडनी की बीमारियां, दस्त और अस्थमा से पीड़ित लोगों में घरघराहट (व्हीज़िंग) के बढ़ने की समस्या हो सकती है। खजूर का एक साथ ज्यादा सेवन करने से ब्लड शुगर भी बढ़ सकता है।

प्रश्न 4- बाज़ार में सही खजूर (डेट) कैसे चुनें?

उत्तर- बाज़ार में खजूर (डेट) खरीदते समय, आपको ऐसे खजूर (डेट) खरीदने चाहिए जो ज़्यादा चिपचिपे या सिकुड़े हुए ना हों बल्कि चमकदार और गूदे वाले हों। उनका रंग सुनहरा होना चाहिए। आपके पड़ोस के बाज़ार या ऑनलाइन स्टोर में, आपको नीचे बताए सभी तरह के या इनमें से कुछ तरह के खजूर (डेट) मिल जाएंगे। आमतौर पर, ये अलग-अलग क्षेत्रों में उपलब्ध हो सकते हैं: 
मेडजूल: मूल रूप से इनकी खेती फिलिस्तीन, मोरक्को, सऊदी अरब में की जाती है
ओमानी: मध्य पूर्व (मिडल ईस्ट), ओमान से
पायरोम: फारस की खाड़ी (पर्शियन गल्फ) से
डेगलेक्ट नूर: टोल्गा, अल्जीरिया के नखलिस्तान से
मजाफती: ईरान से
बरही: यह इराक से आता है
थ्योरी: इसकी खेती अल्जीरिया में की जाती है
अमेरी: यह ईरान में पैदा होता है
दयारी: यह इराक से आता है
खुदरी: इसकी खेती केवल सऊदी अरब में की जाती है
हलावी: ये खजूर (डेट) मेसोपोटामिया से आते हैं
सफवी: इसे सऊदी अरब के मदीना में उगाया जाता है
कलमी: यह मूल रूप से ओमान से है लेकिन इनकी खेती मदीना, सऊदी अरब में की जाती है

Disclaimer:

The information provided here is for educational/awareness purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional and should not be relied upon to diagnose or treat any medical condition. The reader should consult a registered medical practitioner to determine the appropriateness of the information and before consuming any medication. PharmEasy does not provide any guarantee or warranty (express or implied) regarding the accuracy, adequacy, completeness, legality, reliability or usefulness of the information; and disclaims any liability arising thereof.

Links and product recommendations in the information provided here are advertisements of third-party products available on the website. PharmEasy does not make any representation on the accuracy or suitability of such products/services. Advertisements do not influence the editorial decisions or content. The information in this blog is subject to change without notice. The authors and administrators reserve the right to modify, add, or remove content without notification. It is your responsibility to review this disclaimer regularly for any changes.

13
3

Comments

Leave your comment...



You may also like