"MedicalWebPage", "FAQPage"

Get,

Free Doctor Tips

to manage your symptom

Get your,

FREE Doctor Tips Now!!

4 Cr+ families

benefitted

Enter your Phone Number

+91

|

Enter a valid mobile number

Send OTP

Verify your mobile number

OTP sent to 9988776655

CONGRATULATIONS!!!

You’ve successfully subscribed to receive

doctor-approved tips on Whatsapp


Get ready to feel your best.

Hi There,

Download the PharmEasy App now!!

AND AVAIL

AD FREE reading experience
Get 25% OFF on medicines
Banner Image

Register to Avail the Offer

Send OTP

By continuing, you agree with our Privacy Policy and Terms and Conditions

Success Banner Image

Verify your mobile number

OTP sent to 9988776655

Comments

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Leave your comment here

Your email address will not be published. Required fields are marked *

25% OFF on medicines

Collect your coupon before the offer ends!!!

COLLECT

पत्तागोभी (Cabbage in Hindi): उपयोग, फायदे और न्यूट्रिशनल वैल्यू – डॉक्टर राजीव सिंह

By Dr Rajeev Singh +2 more

परिचय :

बंदगोभी, पत्तागोभी या कोबिज,  कैबेज या ब्रासिका ओलेरासिया के देशी नाम हैं और यह क्रूसीफेरी से संबंधित एक क्रूसिफेरस सब्जी है। यह मूल रूप से मेडिटरेनीयन (भूमध्यसागरीय) है और सबसे पहले पश्चिमी यूरोप में इसकी खेती की गई था। भारत में प्रमुख पत्तागोभी (कैबेज) उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश, उड़ीसा, बिहार, असम और पश्चिम बंगाल हैं। पत्तागोभी (कैबेज) का खाने योग्य भाग पत्तेदार परतों से ढका सिर होता है। यह कहना दिलचस्प होगा कि पत्तागोभी (कैबेज) दिखने में जितनी अच्छी लगती है, उससे कहीं ज्यादा स्वादिष्ट होती है। आकार, रंग आदि के आधार पर पत्तागोभी (कैबेज) की विभिन्न किस्में उपलब्ध हैं।

इनमें लाल पत्तागोभी (कैबेज) (ब्रासिका ओलेरासिया  L. var. capitata L. f. Rubra), सबसे ज़्यादा खाई जाने वाली हरी पत्तागोभी (कैबेज) (ब्रासिका ओलेरासिया L. var. capitata L.), सफेद पत्तागोभी (कैबेज) और सेवॉय पत्तागोभी (कैबेज) आदि शामिल हैं। लाल पत्तागोभी (कैबेज) हरी पत्तागोभी (कैबेज) की तुलना में छोटी, सघन और अधिक चटपटी होती है। इसके अलावा, लाल रंग फाइटोकेमिकल एंथोसायनिन के कारण होता है, जो लाल पत्तागोभी (कैबेज) में अधिक होता है। पत्तागोभी (कैबेज) को पतझड़ या वसंत की फसल के रूप में उगाया जाता है। जब इसे कच्चा खाया जाता है, तो इसमें मिर्च जैसा स्वाद आता है, जो पकाने या संरक्षित करने पर चला जाता है। खाने में उपयोग के अलावा, हरी पत्तागोभी (कैबेज) से सेहत कोई कई फायदे मिलते हैं; चलिए अब हम उन फायदों के बारे में जानते हैं।1,2 


पत्तागोभी (कैबेज) की न्यूट्रिशनल वैल्यू :

Patta Gobhi (Cabbage) Ki Nutritional Value:

पत्तागोभी (कैबेज) फाइबर, विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सिडेंट जैसे कि एंथोसायनिन, सल्फर यौगिकों, पॉलीफेनोल, नाइट्रेट्स, फाइलोक्विनोन आदि से भरपूर होती है। पत्तागोभी (कैबेज) के पोषक तत्वों के बारे में नीचे बताया जा रहा है:

पोषक तत्व प्रति 100 ग्राम वैल्यू
कार्बोहाइड्रेट5.8 ग्राम
फाइबर2.5 ग्राम
प्रोटीन1.28 ग्राम
फैट0.1 ग्राम
कैल्शियम40 मिलीग्राम
आयरन0.47 मिलीग्राम

टेबल 1 : पत्तागोभी (कैबेज) की न्यूट्रिशनल वैल्यू1

पत्तागोभी (कैबेज) के गुण :

पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित कई गुण दिखाई देते हैं, इनमें से कुछ गुणों के बारे में नीचे बताया जा रहा है:

  • इसमें हाइपोलिपिडेमिक (लिपिड-कम करने वाले) गुण हो सकते हैं।
  • यह एंटी-डायबिटिक एजेंट के तौर पर काम कर सकता है।
  • इसमें कार्डियोप्रोटेक्टिव (दिल को नुकसान से बचाने वाले) गुण हो सकते हैं।
  • इसमें हेपेटोप्रोटेक्टिव (लिवर को नुकसान से बचाने वाले) गुण हो सकते हैं।
  • इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण हो सकते हैं।1 

संपूर्ण सेहत के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग :

नीचे पत्तागोभी (कैबेज) के कुछ संभावित फायदों के बारे में बताया गया है:

कैंसर के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग

Royston et al. ने कैंसर पर क्रूसिफेरस सब्जियों के प्रभाव का आकलन करने के लिए 2015 में एक लिटरेचर रिव्यु किया। इस से यह निष्कर्ष निकला कि पत्तागोभी (कैबेज) जैसी क्रुसिफेरस सब्जियों में इनसोल-3-कारबिनोल (I3C), और सल्फोराफेन (SFN) जैसे केमिकल कंपाउंड होते हैं जो माइक्रो आरएनए (miRNAs) के रेगुलेटर हैं और डीएनए मिथाइलट्रांसफेरेज़ (DNMTs) और हिस्टोन डेक्सेटाइलिस (HDACs) के अवरोधक हैं, जो ट्रांसलेशन और सेलुलर प्रसार को रोकते हैं और इस तरह से कैंसर के जोखिम को कम करने में मददगार हो सकते हैं। यह इशारा करता है कि पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से कैंसर का खतरा कम हो सकता है। हालाँकि, हमें इन दावों का समर्थन करने के लिए और ज़्यादा अध्ययन की ज़रुरत है।3

दिल के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग

सब्जियों और फलों से भरपूर डाइट दिल की सेहत में सुधार कर सकती है। 2020 में Connolly et al द्वारा आयोजित एक लिटरेचर रिव्यु से पता चलता है कि पत्तागोभी (कैबेज) जैसी क्रुसिफेरस सब्जियों सब्जियों का सेवन दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करता है। पत्तागोभी (कैबेज) में नाइट्रेट्स, फाइलोक्विनोन (विटामिन K) जैसे कई बायोएक्टिव कंपाउंड और ऑर्गोसल्फर कंपाउंड होते हैं, जो कार्डियो प्रोटेक्टिव(दिल को नुकसान से बचाने वाले) प्रभाव डालते हैं। इसके अलावा, इसमें एंथोसायनिन की मौजूदगी ब्लड प्रेशर को कम करने और दिल की सेहत में सुधार करने में मदद कर सकती है। यह इशारा करता है कि पत्तागोभी (कैबेज) का सेवन दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करके दिल की सेहत को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। हालांकि, इन दावों का समर्थन करने के लिए सीमित प्रमाण ही हैं।4

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग

डायबिटिक नेफ्रोपैथी डायबिटीज की एक माइक्रोवस्कुलर समस्या है जो गुर्दे (किडनी) के सामान्य कामकाज में रूकावट डालती है और यह ज़्यादा ROS (रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज, एक प्रकार का बहुत ज़्यादा रिएक्टिव केमिकल) बनने के कारण होती है। Kataya et al.ने डायबिटिक नेफ्रोपैथी पर पत्तागोभी (कैबेज) के प्रभाव का आकलन करने के लिए 2007 में चूहों पर एक अध्ययन किया। अध्ययन ने चूहों में पत्तागोभी (कैबेज) के सप्लीमेंटेशन और डायबिटिक नेफ्रोपैथी के बीच एक सकारात्मक संबंध दिखाया। पत्तागोभी (कैबेज) में एंथोसायनिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज के संचय को रोककर और ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करके माइक्रोवस्कुलर समस्या को कम करने में मदद करते हैं। यह इशारा करता है कि पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से डायबिटिक नेफ्रोपैथी को मैनेज करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, हमें इन दावों का समर्थन करने के लिए और ज़्यादा वैज्ञानिक प्रमाणों की ज़रुरत है।5 

अल्जाइमर के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग

अल्जाइमर एक प्रचलित न्यूरोडीजेनेरेटिव (नर्वस सिस्टम का लगातार कमज़ोर होना) बीमारी है जो अनुभूति में कमी आती है है। Masci et al. द्वारा 2015 में आयोजित एक लिटरेचर रिव्यु से पता चलता है कि पत्तागोभी (कैबेज) में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव वाले पॉलीफेनोलिक कंपाउंड होते हैं, जो उम्र से संबंधित दर्द, सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करते हैं, जो न्यूरोडीजेनेरेटिव (नर्वस सिस्टम का लगातार कमज़ोर होना) का कारण बनती है। इसलिए, पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से न्यूरोडीजेनेरेशन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे पता चलता है कि पत्तागोभी (कैबेज) अल्जाइमर के जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। हालांकि, इन दावों का समर्थन करने के लिए और ज़्यादा अध्ययन की ज़रुरत है।6 

इन्फ्लेमेशन (दर्द, सूजन, जलन) के लिए पत्तागोभी (कैबेज) के संभावित उपयोग

पोलिश लोक चिकित्सा में पत्तागोभी (कैबेज) का इस्तेमाल इन्फ्लेमेशन (दर्द, सूजन, जलन) के उपचार के तौर पर किया जाता था। Zhang et al. द्वारा 2011 में  की गई एक रिसर्च स्टडी में पत्तागोभी (कैबेज) में माइक्रोआरएनए (miRNAs) जैसे एंटी-इंफ्लेमटरी पदार्थों की मौजूदगी की पहचान की गई। ये RNA मॉलिक्यूल पौधों और जानवरों में जीन अभिव्यक्ति को नियंत्रित करने के लिए जाने जाते हैं और सूजन को नियंत्रित करने के लिए महत्वपूर्ण जीन रेगुलेटर के के तौर पर सामने आए हैं। यह इशारा करता है कि पत्तागोभी (कैबेज) संभावित रूप से इन्फ्लेमेशन को नियंत्रित कर सकती है और लिम्पेथिक वेसल (लसीका वाहिकाओं) इन्फ्लेमेशन, मास्टिटिस (स्तन के टिश्यू में सूजन), गठिया, आदि जैसी इंफ्लेमटरी स्थितियों को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल की जा सकती है। हालांकि, इन दावों का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाण सीमित हैं, और हमें इन दावों समर्थन करने के लिए और ज़्यादा अध्ययन की ज़रुरत है।7 

पत्तागोभी (कैबेज) के अन्य संभावित उपयोग:8

  • इसमें फाइबर काफी अच्छी मात्रा में होता और फैट कम है, इसलिए यह वजन नियंत्रित करने में मदद कर सकती है।
  • इसमें विटामिन C और सल्फर की मौजूदगी, शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, पत्तागोभी (कैबेज) में इंडोल-3-कार्बिनोल होता है जो एक एंटीऑक्सीडेंट है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में लीवर की मदद कर सकता है।
  • विटामिन K का अच्छा स्रोत होने के कारण यह खून के थक्के जमने की प्रक्रिया में मदद कर सकती है।
  • पत्तागोभी (कैबेज) फाइबर से भरपूर होती है, और बेहतर पाचन और मल त्याग में मदद कर सकती है।

हालांकि ऐसे अध्ययन हैं जो विभिन्न समस्याओं की स्थितियों में पत्तागोभी (कैबेज) के फायदों को दिखाते हैं, लेकिन ये अध्ययन अपर्याप्त हैं और इंसान की सेहत पर पत्तागोभी (कैबेज) के फायदों की सही सीमा स्थापित करने के लिए आगे और अध्ययन की ज़रुरत है।

पत्तागोभी (कैबेज) का इस्तेमाल कैसे करें?

इसका इस्तेमाल निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है:

  • पत्तागोभी (कैबेज) को सब्जी के रूप में पकाकर या सलाद के रूप में कच्चा भी खाया जा सकता है।
  • इसे अचार या सॉवरक्रॉट (फेर्मेंटेड पत्तागोभी) के तौर पर प्रिज़र्व भी किया जाता है।
  • इसे उबालकर, भूनकर, कद्दूकस करके और भाप में पकाकर भी खाया जा सकता है।

कोई भी हर्बल सप्लीमेंट लेने से पहले आपको किसी योग्य डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। किसी योग्य डॉक्टर से परामर्श किए बिना कोई भी जारी दवा या इलाज बंद न करें या इसे आयुर्वेदिक/हर्बल दवा से रिप्लेस न करें।

पत्तागोभी (कैबेज) के साइड इफेक्ट :

पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से संबंधित कुछ साइड इफेक्ट में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • Strong et al. ने 1966 में एक अध्ययन किया गया जिसमें पाया गया है कि पत्तागोभी (कैबेज) का अधिक सेवन करने से गोइट्रिन, थायोसाइनेट और बेंजाइल साइनाइड जैसे जहरीले केमिकल शरीर में जा सकते है। गोइट्रिन और थायोसायनेट में बढ़ोतरी थायरॉयड के काम में रूकावट डालती है और बेंजाइल साइनाइड के कारण संभावित प्रतिकूल असर (त्वचा और श्वसन पर) हो सकते हैं।9 
  • अधिक मात्रा में पत्तागोभी (कैबेज)  खाने से पेट दर्द, दस्त और पेट फूलना जैसी समस्याएं हो सकती है।10

अगर आपको आप पत्तागोभी (कैबेज) से कोई उल्टा रिएक्शन होता है, तो आपको इसका सेवन बंद कर देना चाहिए और तुरंत डॉक्टर या अपने आयुर्वेदिक चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए जिसने आपको पत्तागोभी (कैबेज) का सेवन करने के लिए कहा था। वे आपके लक्षणों के लिए सही मार्गदर्शन दे पाएंगे।

पत्तागोभी (कैबेज) का इस्तेमाल करते समय सावधानियां :

सामान्य मात्रा में पत्तागोभी (कैबेज) खाना ठीक है। लेकिन आपको निम्नलिखित स्थितियों में सावधानियां रखनी चाहिए:

  • पत्तागोभी (कैबेज) कई कीड़ों का घर होती है, इसलिए कीड़ों, कीटाणुओं और बैक्टीरिया को दूर करने के लिए पत्तागोभी (कैबेज) को अच्छी तरह से धोने की सलाह दी जाती है।
  • गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से संबंधित सेफ्टी डेटा सीमित है। इसलिए, स्तनपान के दौरान पत्तागोभी (कैबेज) का सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।9 

अन्य दवाओं के साथ इंटरेक्शन (परस्पर क्रिया) :

पत्तागोभी (कैबेज) विटामिन K से भरपूर होती है, जो खून के थक्के जमने में सहायक होती है। वार्फरिन का उपयोग करने वाले एंटीकोगुलेंट (खून का थक्का जमने से रोकना) थेरेपी वाले मरीज़ पत्तागोभी (कैबेज) के साथ एक महत्वपूर्ण इंटरेक्शन (परस्पर क्रिया) दिखा सकते हैं,और इस प्रकार, अगर आप वार्फरिन या किसी एंटीकोगुलेंट (खून का थक्का जमने से रोकना) थेरेपी थेरेपी पर हैं, तो आपको पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन को सीमित करना चाहिए। आपको हमेशा अपने आयुर्वेदिक डॉक्टर से अन्य दवाओं के साथ पत्तागोभी (कैबेज) की संभावित इंटरेक्शन (परस्पर क्रिया) के बारे में सलाह लेनी चाहिए और उनके प्रिस्क्रिप्शन का पूरी तरह से पालन करना चाहिए, क्योंकि वे आपकी सेहत की स्थिति और आपके द्वारा ली जा रही अन्य दवाओं के बारे में सबसे अच्छी तरह जानते हैं।11

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

1) पत्तागोभी (कैबेज) का वैज्ञानिक नाम क्या है?

पत्तागोभी (कैबेज) का वैज्ञानिक नाम ब्रैसिका ओलेरासिया है और यह क्रूसीफेरी परिवार से संबंधित है।1

2) लाल और हरी पत्तागोभी (कैबेज) में क्या अंतर है?

लाल पत्तागोभी (कैबेज) छोटी, घनी होती है और इसमें हरी पत्तागोभी (कैबेज) की तुलना में काली मिर्च जैसा स्वाद होता है। इसके अलावा इसका लाल रंग फाइटोकेमिकल एंथोसायनिन के कारण होता है, जो लाल पत्तागोभी (कैबेज) में ज़्यादा होता है।1

3)  क्या पत्तागोभी (कैबेज) वजन घटाने में मदद कर सकती है?

पत्तागोभी (कैबेज) में फाइबर ज़्यादा और फैट कम मात्रा में होता है इसलिए यह वजन नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। हालाँकि, इन दावों का समर्थन करने के लिए वैज्ञानिक प्रमाण सीमित है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि अगर आपको वजन से संबंधित कोई समस्या है तो उसके इलाज के लिए डॉक्टर से परामर्श करें।8

4) क्या पत्तागोभी (कैबेज) कैंसर के मामले में मदद कर सकती है?

साहित्यिक अध्ययनों से पता चलता है कि पत्तागोभी (कैबेज) के सेवन से कैंसर के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है, क्योंकि इसमें इनसोल-3-कारबिनोल (I3C), और सल्फोराफेन (SFN) जैसे केमिकल कंपाउंड होते हैं जो माइक्रो आरएनए (miRNAs) के रेगुलेटर हैं और डीएनए मिथाइलट्रांसफेरेज़ (DNMTs) और हिस्टोन डेक्सेटाइलिस (HDACs) के अवरोधक हैं। ये कंपाउंड नई कैंसर कोशिकाओं को बनने रोकते हैं। हालांकि, यह सिद्ध करने के लिए और ज़्यादा अध्ययन की जरूरत है। इसलिए, कैंसर के उचित इलाज के लिए डॉक्टर से परामर्श करें और पत्तागोभी (कैबेज) को आधुनिक चिकित्सा का विकल्प नहीं मानना चाहिए।3

5) पत्तागोभी (कैबेज) के अधिक सेवन से क्या साइड इफेक्ट होते हैं?

अधिक मात्रा में पत्तागोभी (कैबेज)  खाने से पेट दर्द, दस्त और पेट फूलना जैसी समस्याएं हो सकती है। पत्तागोभी (कैबेज) का अधिक सेवन करने से गोइट्रिन, थायोसाइनेट और बेंजाइल साइनाइड जैसे जहरीले केमिकल शरीर में जा सकते है। गोइट्रिन और थायोसायनेट में बढ़ोतरी थायरॉयड के काम में रूकावट डालती है और बेंजाइल साइनाइड के कारण संभावित प्रतिकूल असर (त्वचा और श्वसन पर) हो सकते हैं।9

References:

  1. Nan Zhang, Shunshan Jiao, and Pu Jing. Red Cabbage Rather Than Green Cabbage Increases Stress Resistance and Extends the Lifespan of Caenorhabditis elegans. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. June 8, 2021. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC8228718/ .
  2. Cabbage. Vikaspedia. [Internet]. January 7, 2021. Available from: https://vikaspedia.in/agriculture/crop-production/package-of-practices/vegetables-1/cabbage .
  3. Kendra J. Royston, B.S. and Trygve O. Tollefsbol. The Epigenetic Impact of Cruciferous Vegetables on Cancer Prevention. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. January 25, 2015. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4354933/ .
  4. Emma L. Connolly, Catherine P. Bondonno, Marc Sim, Simone Radavelli-Bagatini, Kevin D. Croft, Mary C. Boyce, Anthony P. James, Karin Clark, Reindolf Anokye, Nicola P. Bondonno, Richard J. Woodman, Amanda Devine, Seng Khee Gan, Carl J. Schultz, Richard F. Mithen, Joshua R. Lewis, Jonathan M. Hodgson, and Lauren C. Blekkenhorst. A randomised controlled crossover trial investigating the short-term effects of different types of vegetables on vascular and metabolic function in middle-aged and older adults with mildly elevated blood pressure: the VEgetableS for vaScular hEaLth (VESSEL) study protocol. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. May 12, 2020. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7218618/ .
  5. Hazem A. H. Kataya and AlaaEldin A. Hamza. Red Cabbage (Brassica oleracea) Ameliorates Diabetic Nephropathy in Rats. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. April 27, 2007. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2529380/ .
  6. Alessandra Masci, Roberto Mattioli, Paolo Costantino, Simona Baima, Giorgio Morelli, Pasqualina Punzi, Cesare Giordano, Alessandro Pinto, Lorenzo Maria Donini, Maria d’Erme, and Luciana Mosca. Neuroprotective Effect of Brassica oleracea Sprouts Crude Juice in a Cellular Model of Alzheimer’s Disease. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. June 9, 2015. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4477226/ .
  7. Kaja Kasarello, Iwona Köhling, Anna Kosowska, Katarzyna Pucia, Anna Lukasik, Agnieszka Cudnoch-Jedrzejewska, Leszek Paczek, Urszula Zielenkiewicz, Piotr Zielenkiewicz. The Anti-Inflammatory Effect of Cabbage Leaves Explained by the Influence of bol-miRNA172a on FAN Expression. PubMed. [Internet]. March 24, 2022. Available from: https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/35401203/ .
  8. Dr. Nikita Toshi . 9 Wonderful Health Benefits Of Cabbage. Pharmeasy. [Internet]. May 9, 2023. Available from: https://pharmeasy.in/blog/4-wonderful-health-benefits-of-cabbage/ .
  9. F. M. Strong. Naturally Occurring Toxic Factors in Plants and Animals Used as Food. National Center for Biotechnology Information. [Internet]. March 19, 1966. Available from: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1935363/ .
  10. 8 Health Benefits of Cabbage. Health Essentials. [Internet]. September 2, 2022. Available from: https://health.clevelandclinic.org/benefits-of-cabbage/ .
  11. Stacey Colino. 7 Foods That Don’t Mix With Prescription Drugs. AARP. [Internet]. February 3, 2022. Available from: https://www.aarp.org/health/drugs-supplements/info-2022/food-medication-interaction.html .

Disclaimer: 
The information provided here is for educational/awareness purposes only and is not intended to be a substitute for medical treatment by a healthcare professional and should not be relied upon to diagnose or treat any medical condition. The reader should consult a registered medical practitioner to determine the appropriateness of the information and before consuming any medication. PharmEasy does not provide any guarantee or warranty (express or implied) regarding the accuracy, adequacy, completeness, legality, reliability or usefulness of the information; and disclaims any liability arising thereof.

Links and product recommendations in the information provided here are advertisements of third-party products available on the website. PharmEasy does not make any representation on the accuracy or suitability of such products/services. Advertisements do not influence the editorial decisions or content. The information in this blog is subject to change without notice. The authors and administrators reserve the right to modify, add, or remove content without notification. It is your responsibility to review this disclaimer regularly for any changes.

Comments

Leave your comment...



You may also like